Sangeet Waalon Ki Duniya Omsangeet

राग परिवार (रागंग) और मिश्रित राग (जोड़ राग) || Raga Parivar (Ragang) and Mixed Raga (Jod Raga)|| गंभीर रागों का परिचय ||

गंभीर रागों का परिचय राग परिवार (रागंग) और मिश्रित राग (जोड़ राग) Raga Parivar (Ragang) and Mixed Raga(Jod Raga) यह पृष्ठ भारतीय शास्त्रीय संगीत में कुछ अधिक वजनदार रागों के माध्यम से राग परिवारों...

सप्त वैदिक स्वर || सप्त स्वर का अर्थ || Seven Vedic Vowels || meaning of seven vowels ||

सप्त वैदिक स्वर को विश्तार से समझाए।  प्रागैतिहासिक काल से ही भारत में संगीत की परम्परा समृध्दि रही है। केवल कुछ देशों में ही संगीत की इतनी पुरानी एवं इतनी समृद्धि परम्परा पाए जाती...

भारतीय संगीत के आदि प्रेरक || Adi Motivational of Indian Music || Bhartiya sangeet ke janak kaun hai || who is the father of indian music

हम भारतीय संगीत के इ इतिहास के तथ्यों को खोजने का पर्यत्न  करेंगे। ‘इतिहास’ शब्द इति + ह + आस से बना है ‘ इति ‘ का अर्थ है ‘ऐसा’. ‘ ह ‘ का...

राग कल्याण || RAAG KALYAN NOTES || RAAG YAMAN NOTES || ध्रुपद की लयकारी || श्याम कल्याण || पूरिया कल्याण || शुद्ध कल्याण

राग कल्याण  सब ही तीवर सुर जहां , वादी गन्धार सुहाय।  अरु संवादी निखाद तें , ईमन राग कहाय।।  इसे कल्याण ठाट से उत्पन्न माना गया है। इसलिये यह अपने ठाट का आश्रय राग...

|| संगीत क्या है संगीत के प्रकार || What are the types of Indian music ? || भारतीय संगीत कितने प्रकार के होते हैं ? || Hindustani sangeet paddhati ||

सांगीतिक पारिभाषिक शब्दावलियाँ  गीत , वाद्य और नृत्य ये तीनो मिलाकर ‘संगीत’ कहलाते हैं। संगीत में भी ऐसे शब्द जो किसी विशेष ज्ञान के क्षेत्र में एक निश्चित अर्थ में प्रयुक्त होते है ,...

कर्नाटक स्वर – लीपी पद्धति || हिन्दुस्तानी स्वर – लिपि पद्धति || ग्वालियर घराना || जयपुर घराना || Karnataka Swarlipi Padhati || Hindustani Swarilipi Padhat || Question Answer

कर्नाटक स्वर – लीपी पद्धति Qusestion- कर्नाटक स्वर – लिपि पद्धति एवं हिन्दुस्तानी स्वर – लिपि पद्धति को विस्तार से समझाएं।  Ans –  प्राचीन काल से सम्पूर्ण भारत में संगीत की केवल एक पद्धति थी ,...

संगीत एवं मनोविज्ञान || SANGEET EVAM MANOVIGYAN || BHARTIYA SANGEET EVAM MANOVIGYAN || CLASSICAL MUSIC

संगीत एवं मनोविज्ञान   * इन दोनों विषयों का सह – सम्बन्ध मुख्य रूप से सुन्ना व ध्वनि अभिव्यक्ति से है। सभी कलाओं में संगीत कला मनुष्य की अंतरिक प्रकृति , भावनाओं एवं विचारों को...

राग रागिनी वर्गीकरण को विस्तार से समझाए ? || RAAG – RAAGINI KO VISTAAR SE SAMJHAAYEN || CLASSICAL MUSIC || राग-रागिनी पद्दति

Q – राग – रागिनी वर्गीकरण को विस्तार से समझाए ? Ans-राग – रागिनी वर्गीकरण –  मध्यकाल की यह विशेषता थी की कुछ रागों को स्त्री और कुछ को पुरुष मानकर के रागों की...

ABHIVYAKTI || भारतीय और पष्चातीय संगीत || CLASSICAL MUSIC || संगीत की उत्पत्ति

 भारतीय और पाष्चातीय संगीत  संगीत के जन्म के सम्बन्ध में जितने भी अभिमत प्राप्ति हुए है ,वे प्रायः प्राकृतिक ,धार्मिक ,मनोवैज्ञानिक अभिमत से प्राप्त तथ्य है ,जिनके पूर्णरूप से प्रभाव एवं साक्ष्य उपलब्धि नहीं है। परन्तु...

||Ras || Lalitkala || Ras Ki Paribhasha || CLASSICAL MUSIC || SANGEET AUR RAS

 रस , सौंदर्य , राग – रागिनी तथा ललित कलाओं के अन्तर्सम्बन्ध  भारतीय सस्कृति में सौंदर्य का लक्ष्य बिंदु सुंदरता ना होकर रस है। यह काव्य का मूल आधार प्राणत्व अथवा आत्मा है। रस...